मौसमी रोग के लिए कारगर है यूनानी चिकित्सा

दूषित पानी और तापमान में उतार-चढ़ाव के कारण इस मौसम में हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता घट जाती है जिससे हमें वायरल फीवर, डायरिया, दस्त, पेट संबंधी रोग, मलेरिया, डेंगू, तंत्रिका तंत्र में गड़बड़ी और टायफॉइड जैसी बीमारियां होने लगती हैं। यूनानी चिकित्सा पद्धति में इनसे बचाव के लिए ये उपाय किए जाते हैं। उपचार: इम्युनिटी बढ़ाने के लिए खमीरा (मर्बारीद) का प्रयोग किया जाता है। यह एक मोती होता है जिस पर चांदी का वर्क चढ़ा होता है। उसे चाटने से कमजोरी दूर होती है। बच्चों को 2-3 ग्राम व…

Read More