Festive Season में देखने को मिल सकता है Indian Smartphone Market में बूम

Spread the love

नई दिल्ली। भारत के वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही फेस्टिव सीजन ( Smartphone Market in Festive Season ) के नाम होता है। इस दौरान देश में बड़े-बड़े फेस्टिवल्स सेलीब्रेट किए जाते हैं। दशहरा, दीपावली, करवाचौथ, नवरात्र, भैया दूज, क्रिस्मस जैसे कई फेस्टिवल्स हैं जब देश के लोग अपनी जब से रुपया निकालकर खर्च करने से नहीं हिचकते। मौजूदा कोरोना की भेंट चढ़ गया हैै। अब सभी सेक्टर्स को तीसरी तिमाही से काफी उम्मीदें हैं। खासकर देश के स्मार्टफोन मार्केट ( Smartphone Market ) को। उम्मीद की की जा रही है कि देश का स्मार्टफोन बाजार ( Indian Smartphone Market ) के साल की दूसरी छमाही 40 फीसदी तक रिकवर कर सकता है। जिसमें सबसे बड़ा अहम योगदान वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही का होगा।

40 फीसदी के रिकवर होने के संकेत
सप्लाई चेन रोड़ा आने और डोमेस्टिक प्ररेडक्शन में कमी आने के कारण अब भारत का स्मार्टफोन बाजार पुनरुद्धार का संकेत दे रहा है। संभावना जताई जा रही है कि वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में स्मार्टफोन बाजार में 40 फीसदी से ज्यादा रिकवरी हो सकती है। सीएमआर की 'इंडिया मोबाइल हैंडसेट मार्केट रिव्यू रिपोर्ट' के अनुसार मोबाइल बाजार में तीसरी तिमाही के मध्य में सुधार देखने को मिलेगा, जो त्योहारी सीजन में ऑनलाइन बिक्री से आरंभ होगा। स्मार्टफोन बाजार के आने वाले त्योहारी सीजन में पटरी पर लौटने की संभावना है।

यह भी पढ़ेंः- देश के 24 राज्यों में मिलेगी सस्ते अनाज की सुविधा, जानिए किन राज्यों के जुड़े नाम

5 जी स्मार्टफोन की होगी तैयारी
इस दौरान स्मार्टफोन ब्रांड अपने कंज्यूमर सेंट्रिक प्रपोजल्स को प्रदर्शित करने के साथ ही डिलीवरी मॉडल पर अधिक ध्यान केंद्रित करेंगे। इसके अलावा कंपनियां द्वारा 5-जी स्मार्टफोन लांच करने पर भी ध्यान केंद्रित करेंगी। सीएमआर का अनुमान है कि 2020 की दूसरी तिमाही में भारतीय स्मार्टफोन बाजार बेहतर प्रदर्शन की ओर इशारा कर रहा है, जिसमें बाजार में पहली छमाही की तुलना में 40 फीसदी से अधिक की रिकवरी की उम्मीद है।

यह भी पढ़ेंः- June के मुकाबले कम हुई July में सरकार की कमाई, जानें कितना हुआ GST Collection

मजबूत होगा कारोबार
सीएमआर के मैनेजर-इंडस्ट्री इंटेलिजेंस ग्रुप अमित शर्मा के अनुसार कोरोना वायरस महामारी की वजह से 2020 की दूसरी तिमाही नुकसान वाली तिमाही रही है। मोबाइल हैंडसेट उद्योग को उनकी आपूर्ति और मांग के संबंध में कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा है। आने वाले महीनों में उद्योग इसमें संभावित सुधार के लिए तैयार है। अनलॉक चरण में प्रारंभिक उपभोक्ता मांग मुख्य रूप से ऑनलाइन चैनलों के माध्यम से देखी गई है। शर्मा ने कहा, महामारी का सामना करते हुए स्मार्टफोन ब्रांडों ने इनोवेटिव हाइपर लोकल डिलीवरी मॉडल की शुरुआत की है, जिनमें से कुछ में मजबूती हासिल करने की क्षमता है।



Read More
Source Link
Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by CurrentIndia.net. Source: Patrika.com

Related Stories