एक महीना भी भारत का विरोध नहीं झेल सकी Chinese Company, आ गई बिकने की नौबत

Spread the love

नई दिल्ली। टिकटॉक के भारत में बैन ( Tiktok ban in India ) होने के पैरेंट कंपनी बाइटडांस ( Tiktok Parent Company Bytedance ) करीब एक महीना भी नहीं झेल सकी है। अब दुनिया की सबसे बड़ी महाशक्ति अमरीका ने भी इस चीनी कंपनी को बैन ( America Ban Tiktok ) करने की घोषणा कर दी है। अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ( American President Donald Trump ) और विदेश मंत्री माइक पांपियो की ओर से बयान भी आ चुके हैं। वहीं दूसरी ओर अमरीकी कंपनी माइक्रोसॉफ्ट द्वारा टिकटॉक के अमरीकी ऑपरेशन ( Microsoft Buy Tiktok American Operations ) खरीदने की बात सामने आ रही है। ताज्जुब की बात तो ये है कि अमरीका से टिकटॉक बैन होने पर बाइटडांस को अमरीका में भारत के मुकाबले सालाना रेवेन्यू में 6 गुना का नुकसान होगा। आइए आपको भी समझाने की कोशिश करते हैं कि आखिर अमरीका से टिकटॉक बैन होने पर बाइटडांस का गणित किस तरह से बिगड़ जाएगा।

यह भी पढ़ेंः- Gold Bond Scheme 2020-21: सोने में निवेश करने का शानदार मौका, जानिए किनतमी होगी कीमत

टिकटॉक का अमरीका में कितना है यूजर बेस
मौजूदा समय में टिकटॉक 150 से अधिक देशों में अभी भी एक्टिव है। जहां 100 करोड़ से ज्यादा यूजर्स हैं। अगर बात अमरीका की करें तो यहां 17.5 करोड़ बार डाउनलोड किया जा चुका है। जबकि चीन में यूजर्स की संख्या करीब 20 करोड़ हैं। वहीं बात भारत करें तो बैन होने से पहले यहां पर टिकटॉक को 2019 के शुरूआती 11 महीनों में करीब 28 करोड़ बार डाउनलोड किया जा चुका था। वहीं 12 करोड़ मंथली एक्टिव यूजर्स थे। यानी डाउनलोड के मामले में भारत चीन और अमरीका दोनों से आगे था। खैर बात अमरीका की हो रही है तो यहां पर भी टिकटॉक के दिवानों की कोई कमी नहीं है। करोड़ों लोन काफी रुपया कमा रहे हैं।

यह भी पढ़ेंः- देश में जल्द शुरू होने वाला Online Housing Festival, जानिए क्या होगा खास

अमरीका में कितनी होती है कमाई
अगर बात रेवेन्यू की करें तो टिकटॉक की पैरेंट कंपनी बाइटडांस को ज्यादा कमाई होती है। सालाना रेवेन्यू की बात करें तो भारत के मुकाबले अमरीका में बाइट डांस को 6 गुना से ज्यादा कमाई होती है। 2019-20 वित्त वर्ष में टिकटॉक की भारत में कमाई 100 करोड़ रुपए थी तो अमरीका में 650 करोड़ रुपए से ज्यादा की देखने को मिली थी। जबकि चीन से 2500 करोड़ रुपए का रेवेन्यू मिला था। अब आप अंदाजा लगा सकते हैं कि अमरीका को खोना बाइटडांस के लिए कितना नुकसानदायक हो सकता है।

यह भी पढ़ेंः- उधार पर चल रही है सरकार, Fiscal Deficit पहुंचा 6.62 लाख करोड़ रुपए

तेजी से बढ़ रहा है ग्रोथ
रिपोर्ट की मानें तो भारत में बैन होने से पहले टिकटॉक का मार्केट ग्रोथ वित्त वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही में 8.4 फीसदी का ग्रोथ देखने को मिल रहा है। वहीं बात अमरीका की करें तो साल दर साल के आधार पर अमरीका में टिकटॉक का ग्रोथ 17.6 फीसदी देखने को मिला है, वहीं ब्राजील में 27.1 फीसदी की ग्रोथ देखने को मिल रही है। ऐसे में अमरीका में टिकटॉक बैन करने की घोषणा के बाद बाइटडांस का परेशान होना लाजिमी है।

यह भी पढ़ेंः- Apple ने Saudi Aramco को पछाड़ा, एक बार फिर बनी World's Most Valuable Company

भारत में 45 हजार करोड़ का नुकसान तो अमरीका में कितना
भारत में टिकटॉक बैन होने के बाद चीनी मीडिया द ग्लोबल टाइम्स की रिपोर्ट तमें आंकलन किया गया है कि भारत में टिकटॉक बैन होने के बाद 45 हजार करोड़ रुपए का नुकसान संभव है। अगर बात अमरीका की करें तो भारत को आधार बनाए और 17.8 फीसदी की ग्रोथ रेट को देखें तो अमरीका में टिकटॉक बैन होने पर करीब 3 लाख करोड़ रुपए का नुकसान होने का अनुमान हैै।



Read More
Source Link
Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by CurrentIndia.net. Source: Patrika.com

Related Stories