अगर आप भी हैं शाकाहारी तो इस जानलेवा रोग के होने की आशंका कम

Spread the love

हमारे खानपान का हमारी सेहत से सीधा संबंध होता है। प्राकृतिक रूप से हम साग सब्ज़ियां खाने के लिए ही डिज़ाइन किये गए हैं। लेकिन मानव आहार श्रंखला में मांसाहार और शाकाहार दोनों ही प्रमुखता से शामिल हैं। भारत में ज़्यादातर लोग धार्मिक प्रवृत्ति के होने के कारण मांसाहार से परहेज करते हैं। ऐसे शाकाहारी लोगों के लिए यह खबर हौसला बढ़ाने वाली है। दरअसल, नई दिल्ली स्थित जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में हुए एक शोध के अनुसार शाकाहार कैंसर से बचाता है। स्कूल ऑफ लाइफ साइंस में कैंसर बायोलॉजी के प्रो. राणा पी. सिंह ने कोलन रेक्टम कैंसर (बड़ी आंत का कैंसर) पर शोध कर यह निष्कर्ष निकाला है। शाकाहार से व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी इजाफा होता है।

अगर आप भी हैं शाकाहारी तो इस जानलेवा रोग के होने की आशंका कम

हरे-पीले फल व सब्जियां
हरी और पीले रंग की सब्जियों व फलों में अधिक मात्रा में डाइट्री फाइबर्स होते हैं। ये रेशे पेट के अंदर मौजूद लाभदायक बैक्टीरिया 'मायक्रोबायोटा' से क्रिया करके 'ब्यूटारेट' नामक रसायन बनाते हैं। ब्यूटारेट उपयोगी कोशिकाओं को न केवल स्वस्थ रखता है बल्कि कैंसर कोशिकाओं को निष्क्रिय कर उनके फैलाव को रोकता है। इससे पहले हुए कई शोधों में भी इसके प्रमाण मिल चुके हैं।

अगर आप भी हैं शाकाहारी तो इस जानलेवा रोग के होने की आशंका कम

ब्यूटारेट की भूमिका
कैंसर कोशिकाओं को अपनी संख्या बढ़ाने के लिए माइट्रोकॉन्ड्रिया की जरूरत होती है जो आवश्यक ऊर्जा की पूर्ति करता है। जब शरीर में मौजूद कैंसर कोशिकाएं अपनी संख्या बढ़ाने की कोशिश करती हैं तो ब्यूटारेट, माइट्रोकॉन्ड्रिया को सक्रिय नहीं होने देता जिससे कैंसर कोशिकाओं को ऊर्जा नहीं मिलती और वे वृद्धि नहीं कर पातीं।

अगर आप भी हैं शाकाहारी तो इस जानलेवा रोग के होने की आशंका कमअगर आप भी हैं शाकाहारी तो इस जानलेवा रोग के होने की आशंका कम

Read More
Source Link

Related Stories