बीते 2 साल में रोजगार में हुई थी जबरदस्त वृद्धि, EPFO से जुड़े 1.39 करोड़ लोग

Spread the love

नई दिल्ली : नौकरीपेशा लोगों के लिए EPF अकाउंट जरूरी होता है, लेकिन इससे पैसे निकालने के सिवाय ये भी पता किया जा सकता है कि कितने लोग संगठित क्षेत्र में काम कर रहे हैं।EPFO यानि कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) की ओर से हाल ही में जारी रिपोर्ट के मुताबिक सितंबर, 2017 से अब तक EPFO के साथ जुड़ने वाले लोगो ( NEW MEMBER TO EPFO ) की संख्यें बड़ी संख्या वृद्धि हुई है। 2018-19 और 2019-20 में EPFO के सदस्यों की संख्या में 28 फीसदी की बढ़त देखी गई है। वित्तीय वर्ष 2018-19 में इसके मेंबर्स की संख्या 61.12 लाख बढ़कर 2019-20 में 78.58 लाख हो गई। EPFO का दावा है कि इस वित्त वर्ष में नवंबर तक 62 लाख लोगों को नई नौकरियां मिली हैं ।

Corona Impact : महंगा होगा Health Insurance Premium, IRDAI ने बदले नियम

शानदार ब्याज देता है EPFO - ईपीएफओ ( EPFO ) ने वर्ष 2019-20 के लिए एफडी या किसी अन्य योजना से ज्यादा 8.5% का कर मुक्त ब्याज दिया।

युवाओं की संख्या में वृद्धि – वित्तीय वर्ष 2019-20 में पिछले साल की तुलना में 26 से 28, 29 से 35 और 35 वर्ष से अधिक उम्र के ग्राहकों के कुल नामांकन में 50% से अधिक की बढ़ोत्तरी हुई है। ये बात उम्र के हिसाब से की गई स्टडी में सामने आई है। ये भी सामने आया है कि ऑनलाइन सुविधाएं दिये जाने के बाद से EPFO की एक्टिविटीज में युवाओं का योगदान बढ़ा है।

Covid-19 के बाद बिगड़ेगा प्रति व्यक्ति आय का समीकरण, लेकिन अमीरों पर पड़ेगा ज्यादा असर : SBI

72 घंटे में होता है क्लेम सेटल- कोरोना संकट को देखते हुए कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) ने निकासी क्लेम की प्रक्रिया में देरी का सामाना कर रहे अपने सभी पीएफ खाताधारकों से कहा है कि वे मात्र 72 घंटों में क्लेम की ऑटोमेटिक प्रोसेसिंग के लिए कोरोना वायरस महामारी नियम के तहत निकासी के लिए आवेदन करें। यानि अब अगर कोई व्यक्ति PF अकाउंट से पैसा निकालना चाहता है तो उसे मात्र 3 कामकाजी दिनों में क्लेम मिल जाएगा।



Read More
Source Link

Related Stories