लॉकडाउन : एन95 या कॉटन मास्क? फैशन की दुनिया में छिड़ी जंग

Spread the love

लॉकडाउन के पांचवे चरण में सरकार द्वारा ढील दिए जाने के बाद लोग अब घरों से बाहर निकलने लगे हैं। ऐसे में फेस मास्क और सुरक्षा उपकरणों की मांग पहले से काफी ज्यादा बढ़ गई है। जहां एन95 और सर्जिकल मास्क सबसे ज्यादा मशहूर है, वहीं कपड़ों के बने मास्क भी बेहद प्रभावी व फैशनेबल माने गए हैं। ये मुलायम, आरामदेह और सहज होते हैं और इनसे नाक व चेहरे को पर्याप्त कवरेज भी मिल जाता है।

इनमें कई सारे फीचर्स भी हैं जैसे कि ट्रिपल लेयर फिल्ट्रेशन, लीकेज कंट्रोल (धूल के कण छन जाते हैं), अल्ट्रा-कूल टेक्नोलॉजी और प्रदूषण, धूल, धुआं से सुरक्षा इत्यादि। सबसे जरूरी बात तो यह है कि इन्हें धोकर इनका दोबारा इस्तेमाल भी किया जा सकता है। बीते दिनों एन95/सर्जिकल मास्क की भारी मांग रही, ऐसे में भारत सरकार और रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) ने वायरस को फैलने से रोकने और खुद को स्वस्थ रखने के लिए कपड़ों के बने मास्क या होममेड मास्क के उपयोग के लिए एक सलाह जारी की।

महिलाओं के लिए लुई फिलिप, जैक एंड जॉन्स, मैक्स और डब्ल्यू जैसी कई प्रमुख कंपनियों ने क्लॉथ मास्क को बनाकर उन्हें ऑनलाइन बेचना शुरू कर दिया। अमेजन फैशन की तरफ से एक ऐसे स्टोर की भी पेशकश की गई है, जिसमें देश भर के 35 से विक्रेताओं से पांच सौ से अधिक मास्क उपलब्ध हैं। आप चाहें तो स्थानीय विक्रेताओं से वियर योर ओपिनियन, बॉन ऑर्गेनिक और रैप्सोडिया जैसे तमाम मास्क की खरीदारी कर उन्हें इस्तेमाल में ला सकते हैं। यहां कुछ ऐसे ही मास्क सुझाए गए हैं, जिन्हें आप अपनी पसंद व फैशन के मुताबिक पहन सकते हैं।

प्रिंटेड
प्रिंट का फैशन हमेशा से ही चलन में रहा है। ये मुलायम मास्क ट्रोपिकल, जियोमेट्रिक और कई अन्य लुभावने डिजाइन्स में उपलब्ध हैं।

फ्लोरल
ये कुछ ऐसे हैं, जो हर रोज के उपयोग के लिए उपयुक्त हैं और महिलाओं को यह बेहद भाता भी है।

चेक और स्ट्राइप्स
ये दिखने में काफी प्रोफेश्नल लगते हैं और पहनने में लुक भी काफी अच्छा आता है।

मोनोटोन
ब्राइट, बोल्ड और सॉलिड कलर्ड के ये मास्क भी आजकल काफी चलन में हैं, जिन्हें अपनी पसंद के रंग अनुसार पहना जा सकता है।



Source Link
Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by CurrentIndia.net. Source: Patrika.com

Related Stories