Sourav Ganguly के पहले कोच Ashok Mustafi का निधन, Avishek Dalmiya बोले- क्रिकेट उनका योगदान याद रखेगा

Spread the love

Ashok Mustafi के निधन पर CAB अध्यक्ष Avishek Dalmiya ने शोक संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि अशोक मुस्तफी सर के निधन से वह स्तब्ध और दुखी हैं।

कोलकाता : टीम इंडिया (Team India) के पूर्व कप्तान और भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के मौजूदा अध्यक्ष सौरव गांगुली (BCCI President Sourav Ganguly) के हुनर को पहचान कर उन्हें तराशने वाले पहले कोच अशोक मुस्तफी (Ashok Mustafi) का निधन हो गया। वह 86 साल की उम्र के थे। बताया जाता है कि मौत की वजह दिल का दौरा पड़ना था।

James Anderson ने साथी तेज गेंदबाज Stuart Broad की तारीफ की, बोले उन्हें भी छोड़ सकते हैं पीछे

कैब ने मुस्तफी के निधन पर जताया शोक

मुस्तफी अपने पीछे एक पुत्री छोड़ गए हैं। उनके निधन पर बंगाल क्रिकेट संघ (CAB) ने गहरा शोक व्यक्त किया है। कैब के अध्यक्ष अभिषेक डालमिया (Avishek Dalmiya) ने शोक संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि वह अशोक मुस्तफी सर के निधन से स्तब्ध और दुखी हैं। क्रिकेट में उनके योगदान, खासकर क्रिकेटरों का भविष्य संवारने में उनकी ओर से निभाई गई अहम भूमिका के लिए उन्हें हमेशा याद रखा जाएगा। डालमिया ने उनके परिवार के प्रति भी संवेदनाएं व्यक्त करते हुए कहा कि भगवान मुस्तफी सर की आत्मा को शांति प्रदान करें।

मुस्तफी के सिखाए कई और क्रिकेटर खेल चुके हैं रणजी

सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) ने सबसे पहली बार अशोक मुस्तफी की देखरेख में ही क्रिकेट की ट्रेनिंग लेनी शुरू की थी। शुरुआत में वह अपने करीबी दोस्त संजय दास के साथ अशोक मुस्तफी के कोचिंग सेंटर दुखीराम में जाया करते थे। मुस्तफी के सिखाए हुए गांगुली इकलौते ऐसे क्रिकेटर नहीं हैं, जिन्होंने प्रथम श्रेणी क्रिकेट खेला। उनसे कोचिंग पाने वाले कई क्रिकेटर बंगाल की ओर से रणजी (Ranji) खेल चुके हैं।

Joe Root बोले, दो महान गेंदबाजों के साथ खेल रहे हैं, यह हमारा सौभाग्य की दोनों हमारी टीम में

उनके शिष्य गांगुली ने किया सबसे ज्यादा नाम रोशन

अशोक मुस्तफी के हालांकि कई शिष्य प्रथम श्रेणी और लिस्ट ए टूर्नामेंट में खेले, लेकिन उनके शिष्य सौरव गांगुली ही इकलौते ऐसे क्रिकेटर रहे, जो अंतरराष्ट्रीय स्तर तक पहुंचे। गांगुली भारत की ओर से कुल 113 टेस्ट और 311 वनडे खेले। इस दौरान उन्होंने टेस्ट में 16 टेस्ट शतक की मदद से 7212 रन बनाए तो वहीं वनडे में 22 शतक की सहायता से 11363 रन बनाए। 2001 में उन्होंने टीम इंडिया की कमान संभाली और भारत को विदेशों में जीतना सिखाया। इतना ही नहीं, मौजूदा समय में वह भारतीय क्रिकेट के शीर्ष पद पर विराजमान हैं।



Read More
Source Link

Related Stories