Pragyan Ojha ने खोला राज, मैदान पर अपने खिलाड़ियों को लेकर भी बेहद आक्रामक थे Anil Kumble

Spread the love

Anil Kumble टेस्ट और एकदिवसीय क्रिकेट में भारत की ओर से सबसे कामयाब गेंदबाज हैं। उन्होंने 132 टेस्ट और 271 वनडे में क्रमश: 619 और 337 विकेट लिए हैं।

नई दिल्ली : टीम इंडिया (Team India) के पूर्व लेफ्ट आर्म गेंदबाज प्रज्ञान ओझा (Left arm spin bowler Pragyan Ojha) ने कहा कि बतौर कप्तान अनिल कुंबले (Anil Kumble) का व्यवहार मैदान के अंदर बेहद आक्रामक हुआ करता था, जबकि वह मैदान के बाहर बेहद नरम स्वभाव के थे। प्रज्ञान ओझा (Pragyan Ojha) ने विजडन (Wiseden) से कुंबले की कप्तानी पर बात करते हुए कहा कि वह मैदान पर बेहद आक्रामक हुआ करते थे, न सिर्फ प्रतिद्वंद्वियों के साथ, बल्कि अपने अपने खिलाड़ियों के साथ भी। ओझा ने कहा कि मैदान से बाहर आप उस व्यक्ति को मैदान वाले कुंबले से जोड़ नहीं पाएंगे। उन्होंने कहा कि वह उस व्यक्ति की बात कर रहे हैं, जिसे उन्होंने मैदान पर देखा था? वह कड़ी प्रतिस्पर्धा करते थे, लेकिन मैदान के बाहर वह बहुत ही नरम थे।

Aakash Chopra ने क्रिकेट में नेपोटिज्‍म पर की बात, Arjun Tendulkar और Rohan Gavaskar का दिया उदाहरण

धोनी की कप्तानी में खेले ओझा

प्रज्ञान ओझा ने अपने पांच साल के संक्षिप्त अंतरराष्ट्रीय करियर में 113 विकेट लिए। टीम इंडिया में वह महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) की कप्तानी में खेले थे। उनका करियर उस समय शुरू हुआ, जब सौरव गांगुली (Sourav Ganguly), राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) और वीवीएस लक्ष्मण (VVS Laxman) जैसे दिग्गजों का करियर समाप्त होने वाला था और नए खिलाड़ियों में विराट कोहली (Virat Kohli) और रोहित शर्मा (Rohit Sharma) टीम इंडिया में अपनी जगह बना रहे थे।

सचिन को बताया बेहद शांत

प्रज्ञान ओझा ने कहा कि इन खिलाड़ियों में से सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ऐसे खिलाड़ी थे, जो बेहद शांत रहते थे। वह कभी प्रतिक्रिया नहीं देते थे। उनका एक अलग नजरिया था। बता दें कि सचिन तेंदुलकर का विदाई टेस्ट ही प्रज्ञान ओझा का भी अंतिम टेस्ट मैच था। प्रज्ञान ने कहा कि अनिल भाई का नजरिया अलग था। धोनी और कोहली देश के लिए खेल जीतना चाहते हैं, लेकिन कुंबले इन दोनों से एकदम अलग थे।

सामने आया Virat Kohli के नंबर एक बनने का राज, Hardik Pandya ने सबके सामने ओपन कर दिया सीक्रेट

भारत के सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज हैं कुंबले

अनिल कुंबले टेस्ट और एकदिवसीय क्रिकेट में भारत की ओर से सबसे कामयाब गेंदबाज हैं। उन्होंने 132 टेस्ट में 619 विकेट लिए हैं। क्रिकेट के सबसे लंबे प्रारूप में सबसे ज्यादा विकेट लेने के मामले में वह विश्व में तीसरे स्थान पर हैं। पहले स्थान पर श्रीलंका के मुथैया मुरलीधरन (Muttiah Muralitharan) हैं। उन्होंने 800 टेस्ट विकेट लिए हैं तो वहीं दूसरे स्थान पर ऑस्ट्रेलिया के शेन वॉर्न (Shane Warne) हैं। उनके नाम 708 विकेट है। एकदिवसीय क्रिकेट की बात करें तो कुंबले ने 271 वनडे में 337 विकेट लिए हैं।



Read More
Source Link

Related Stories