बॉलीवुड में अमिताभ बच्चन होने का मतलब क्या होता है, जानें आयुष्मान खुराना के नजरिए से

Spread the love

मुंबई। अभिनेता आयुष्मान खुराना ( Ayushmann Khurrana ) और अमिताभ बच्चन ( Amitabh Bachchan ) की फिल्म 'गुलाबो सिताबो' ( Gulabo Sitabo ) 12 जून को ओटीटी पर रिलीज हुई। दोनों की इस मूवी के रिव्यूज शानदार आए हैं। ऐसे में आयुष्मान ने अमिताभ के साथ अपने अनुभवों को शेयर किया है।

बॉलीवुड में अमिताभ बच्चन होने का मतलब क्या होता है, जानें आयुष्मान खुराना के नजरिए से

आयुष्मान ने अपने सोशल मीडिया हैंड्लस पर लिखा, 'जब भी हमारे देश में कोई नौजवान अभिनय के क्षेत्र में कदम रखना चाहता है तो उसका ध्येय होता है अमिताभ बच्चन। मेरी आखिरी फिल्म में एक डायलॉग था कि बच्चन बनते नहीं है, बच्चन तो बस होते हैं। जब मैंने बचपन में चंडीगढ़ के नीलम सिनमा में 'हम' देखी थी और बढ़े से बच्चन को बढ़े से पर्दे पर देखा था तो शरीर में ऐसी ऊर्जा उत्पन्न हुई जिसने मुझे अभिनेता बनने पर मजबूर कर दिया। मेरा पहला टीवी शूट मुकेश मिल्ज में हुआ था और यही वो जगह थी जहां 'जुम्मा चुम्मा दे दे' शूट हुआ था। उस दिन मुझे I have arrived वाली feeling आ गयी थी। अगर तब यह हाल था तो आज आप सोच सकते होंगे मैं किस अनुभूति से गुज़र रहा होउंगा। 'गुलाबो सिताबो' में मेरे सामने बतौर ‘सह’ कलाकार यह हस्ती खड़ी थी और किरदारों की प्रवृति ऐसी थी की हमें एक दूसरे को बहुत ‘सहना’ पड़ा। वैसे असल में मेरी क्या मजाल की मैं उनके सामने कुछ बोल पाऊं। इस विस्मयकारी अनुभव के लिए मैं शूजित दा का धन्यवाद करना चाहूंगा कि उन्होंने मुझे अमिताभ बच्चन जैसे महानायक के साथ एक फ़्रेम में दिखाया है। दादा आप मेरे गुरू हैं, आपका हाथ थाम कर यहां तक पहुंचा हूं। 'सौ जन्म क़ुर्बान यह जन्म पाने के लिए, जिंदगी ने दिए मौके हजार हुनर दिखाने के लिए।' -आयुष्मान

अमिताभ बच्चन के लिए उनका प्रत्येक प्रोजेक्ट अपनी तरह की एक नई चुनौती लेकर आता है और उनकी नई फिल्म 'गुलाबो सिताबो' भी इस मामले...



Read More
Source Link
Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by CurrentIndia.net. Source: Patrika.com

Related Stories